What is Depression? अवसाद क्या है? सुशांत सिंह राजपूत की याद में

दोपहर के लगभग दो बजे थे, खाना खाने बैठा ही था की अकस्मात ही टीवी पर एक न्यूज़ फ़्लैश होती है की सुशांत सिंह राजपूत ने खुदखुशी कर ली | कुछ पलों के लिए तो यकीन नहीं हुआ , फिर जब यह खबर हर चैनल पर चलने लगी तो समझ आया यह हकीकत है|

तनाव के उन क्षणों में मजबूत लोग भी आत्महत्या कर लेते हैं, वो लोग जिनके पास सब कुछ है शान, शौकत, रुतबा, पैसा इनमें से कुछ भी उन्हें नहीं रोक पाता, तो फिर क्या कमी रह जाती है ?

अवसाद क्या है?

सबसे पहले जरूरत है अवसाद को समझने की| यह एक गहरी उदासी की भावना है जो हमारे अंतर्मन का हिस्सा बन जाती है| अंतर्मन इसलिए क्योंकि हो सकता है की यह उदासी स्पष्ट रूप से हमारे स्वाभाव में ना झलके परन्तु हमारे नजरिये, सोचने के तरीके और निश्चय ही हमारे स्वाभाव में परिवर्तन आता जरूर है|

इस उदासी की भावना के कारण हम किसी भी एक्टिविटी में हिस्सा लेना नहीं चाहते हैं, उनमें भी नहीं जिनमे सामन्यतः हमारी रुचि रहती है| हम अकेले रहना चाहते है| सामाजिक मेलजोल पसंद नहीं आता | और सबसे नकारत्मक बात हम इस परिस्थिति से निकलना नहीं चाहते|

अवसाद के क्या लक्षण हैं?

अवसाद को समझना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि यह अदृश्य है। यह विकार विचारों, व्यवहारों, और भावनाओं द्वारा परिभाषित होता है बजाय स्पष्ट लक्षण जैसे उल्टी या बुखार। अक्सर हमारे जानने वाले और करीबी भी इन लक्षणों को अनदेखा कर देते हैं, जैसे -“बस उठो और कुछ करो “| अधिकतर मामलों में तो खुद अवसाद से गुजर रहा व्यक्ति भी इसे समझ नहीं पाता|

यह समझने के लिए कि वास्तव में अवसाद क्या है हमें लक्षणों के बारे में बात करने की आवश्यकता है।

प्रथम सबसे पहले अवसाद के लक्षणों का सम्बन्ध इस बात से है की किसी को कैसा लगता है या कोई कैसा महसूस कर रहा है। इन लक्षणों में शामिल हैं दुःख, क्रोध,अपराध बोध, या निराशा की लगभग निरंतर भावनाएँ ।

अगला, लक्षण हैं व्यवहार से संबंधित। वे सामाजिक मेलजोल से बचने लगते हैं, ऊर्जा की कमी, कम प्रेरणा, खराब एकाग्रता, नींद की समस्या, या भूख में महत्वपूर्ण परिवर्तन।

अंत में, विचारों से संबंधित लक्षण आत्मसम्मान की भावना में कमीं, आत्महत्या के विचार और नियमित गतिविधियों में रुचि की हानि शामिल हैं ।

अवसाद मूड में परिवर्तन या बोरीअत की तरह नहीं है, जो थोड़ी देर बाद बदल जाये| यह हफ़्तों बना रहता है, शायद महीनों या कई बार तो सालों भी|  साथ ही यह कुछ अंतराल के बाद उभर भी सकता है| बहुतों को हम में से, यह निर्णय की तरह लग सकते हैं। यह ऐसा लगता है कि उदास है, किसी ने फैसला किया है, आलसी होना और पूरे दिन सोना, या दोस्तों के साथ समय बिताना बंद करने का फैसला किया या फिर उसका बुरा रवैया है। लेकिन याद रखें: जो हमारे सिर में है वह काल्पनिक नहीं है। हमारे विचार, भावनाओं और व्यवहारों से प्रभावित होते हैं हमारे दिमाग में रसायनों की एक जटिल श्रृंखला।

वास्तव में अवसाद कैसा महसूस होता है?

दीपिका पादुकोण का कहना है की रणबीर कपूर से ब्रेकअप के बाद वह अवसाद से गुजर रहीं थीं|

दीपिका पादुकोण ने अपने एक इंटरव्यू में कहा, “मेरे लिए इस यात्रा में सबसे कठिन हिस्सा समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या महसूस कर रही थी।”

उन्होंने कहा, “जो शब्द अवसाद के मेरे अनुभव का सबसे अच्छा वर्णन करता है, वह संघर्ष है। हर पल संघर्ष था। मैंने पूरे समय यही महसूस किया।”

अवसाद से गुजर रहे मोहित (नाम काल्पनिक) अपनी भावनाओं को बताते है|

MOHIT: मैं किसी का सामना नहीं करना चाहता था;
मैं किसी से बात नहीं करना चाहता था मैं वास्तव में अपने लिए कुछ नहीं करना चाहता था
क्योंकि मुझे ऐसा लगा, मुझे ऐसा लगा मैं इतना भयानक व्यक्ति था कि मेरे लिए खुद के लिए कुछ भी करने का कोई वास्तविक कारण नहीं है।

मैं वास्तव में एक मिनट भी बैठ कर ऐसा कोई काम नहीं कर सकता था जिसके लिए एकाग्रता की जरूरत हो।

मैंने कोई पुस्तक नहीं पढ़ पता था, मैं मुश्किल से क्लास में गया। मैं घर से बाहर नहीं निकलता था| मैं कॉलेज में था इसलिए मैं कक्षाओं में बिल्कुल नहीं जाता था। मेरा वजन बहुत बढ़ गया|

यह खुद से एक संघर्ष था, निरंतर और लगातार|

क्या अवसाद और चिंता समान हैं?

भ्रम का एक प्रमुख श्रोत है, उदास लगना और अवसाद के बीच का फर्क ना समझ पाना| लगभग सभी लोग परिस्थितिवश उदास होते हैं| परीक्षा में ख़राब प्रदर्शन, नौकरी में दिक्कत, पारिवारिक चिंता अनेको कारण हो सकते हैं, या फिर कभी कभी बिना किसी कारण जैसे दिनचर्या से ऊब जाना आदि वजहों से मनुष्य उदास महसूस कर सकता है| परन्तु परिस्थतियों के बदलने के साथ ही यह उदासी चली जाती है| अवसाद इससे अलग है, यह एक चिकित्सा विकार है,और यह दूर नहीं जाएगा सिर्फ इसलिए कि आप इसे दूर करना चाहते हैं। यह कम से कम लगातार दो हफ़्तों तक बना रहता है और आपके व्यवहार , सोच और समाजीकरण को बुरी तरह प्रभावित करता है|

उदासी और अवसाद में सबसे बड़ा अंतर यह है की जब आप उदास होते है तो अपना मूड बदलने के लिए अपने दोस्तों से मिलना चाहते हैं, परिवार के साथ समय बिताना चाहते हैं या किसी नयी जगह जाना चाहते है| मगर जब अप अवसाद में होते हैं तो आप किसी से मिलना नहीं चाहते, आपका मन इतनी घोर निराशा से घिर जाता है की आप इससे निकलना भी नहीं चाहते|

क्या अवसाद ठीक हो सकता है?

अवसाद का इलाज जटिल जरूर है पर संभव है|थोड़ा धैर्य चाहिए, सबकुछ ठीक हो जायेगा| मगर आवश्यकता है सही समय पर चिकित्सकीय परामर्श की| इसे हलके में ना लें यह केवल एक विचार नहीं है बल्कि प्रमाणिक रूप से बिमारी है|

अवसाद, कहाँ मदद खोजें?

अवसाद के इलाज के बारे में अच्छी बात यह है की अवसाद को स्वीकार कर लेने और इसके इलाज की पहल कर लेने मात्र से सुधार दिखने लगता है| ऐसे समय में चाहिए एक व्यक्ति जो आपके दर्द को सुन सके| जिससे आप अपनी समस्याएं बाँट सकें| अगर एक बार अपने मान लिया की आपको मदद की आवश्यकता है तो फिर मदद बहुत दूर नहीं है|

क्या डिप्रेशन आपको बेहतर बना सकता है?

वैसे अवसाद का एक सकारत्मक पहलु भी है|

समाजीकरण में कमी के कारण आप ज्यादा एकाग्रचित होकर कार्य कर सकते है| अक्सर ऐसा देखा गया है की संगीतकार , शायर, पेंटर , लेखक आदि जैसे कलाकार अपनी सर्वोत्तम रचनाएँ अपने घोर निराशा के काल में ही करते है| अवसाद का समय आपको अपने सच्चे दोस्तों की पहचान करने में भी मदद कर सकता है| परन्तु इसके अपने रिस्क हैं|

कब अवसाद आपके जीवन को बर्बाद कर देता है?

अवसाद एक ‘विसीयस साइकिल’ अर्थात दुश्चक्र का निर्माण करता है, जिसमें आप लोगो से मिलना नहीं चाहते क्योंकि आप दुखी महसूस करते है, और आप दुखी महसूस करते हैं क्योंकि आप लोगों से मिलते नहीं| जब आप इस दुष्चक्र में फास जाते है तब अवसाद आपका जीवन बर्बाद कर सकता है|जरूरत है तो इस दुष्चक्र को तोड़ने की|

अवसाद क्यों बढ़ रहा है?

अवसाद एकाकी जीवन शैली जिसमें हम जीवन की सभी उपलब्धियों को आर्थिक पैमानें पर तौलते जा रहें हैं, के कारण बढ़ता जा रहा है| व्यस्त जीवन शैली के कारण परिवार और दोस्तों के लिए वक़्त कम होता जा रहा है|ऐसे में जीवन के संघर्ष में व्यक्ति अपने को अक्सर अकेला पता है | ऐसे ही नाजुक पलों में अवसाद उसके मन और मस्तिष्क में अपना घर बना लेता है|

चलते चतले एक कहानी-

एक बहुत ही शानदार लड़का था, उसने हमेशा विज्ञान में 100% स्कोर किया। IIT मद्रास के लिए चयनित हुए और IIT में उत्कृष्ट स्कोर किया।एमबीए के लिए कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय गए। अमेरिका में उच्च वेतन वाली नौकरी मिली और वहीं बस गए। एक खूबसूरत तमिल लड़की से शादी की। 5 कमरे का बड़ा घर और लग्जरी कारें खरीदीं।

उसके पास वह सब कुछ था जो उसे सफल बनाता है लेकिन कुछ साल पहले उसने अपनी पत्नी और बच्चों को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी।

क्या गलत हुआ?

कैलिफोर्निया के नैदानिक ​​मनोविज्ञान संस्थान ने उनके मामले का अध्ययन किया और पाया कि “क्या गलत हुआ?” शोधकर्ता ने लड़के के दोस्तों और परिवार से मुलाकात की और पाया कि उसने अमेरिका के आर्थिक संकट के कारण अपनी नौकरी खो दी और उसे लंबे समय तक नौकरी के बिना बैठना पड़ा। अपनी पिछली वेतन राशि को कम करने के बाद भी उन्हें कोई नौकरी नहीं मिली। फिर उसकी घर की किस्त टूट गई और वह और उसका परिवार का घर खो बैठे।

वे कम पैसे के साथ कुछ महीनों तक जीवित रहे और फिर उन्होंने और उनकी पत्नी ने एक साथ आत्महत्या करने का फैसला किया। उसने पहले अपनी पत्नी और बच्चों को गोली मारी और फिर खुद को भी गोली मार ली।

मामले ने निष्कर्ष निकाला कि इस आदमी को सफलता के लिए प्रोग्राम किया गया था लेकिन असफलताओं से निपटने के लिए उसे प्रशिक्षित नहीं किया गया था।

अब आइए वास्तविक प्रश्न पर आते हैं।

अत्यधिक सफल लोगों की आदतें क्या हैं?

सबसे पहले, याद रखें कि यदि आपने सब कुछ हासिल कर लिया है, तो सब कुछ खो देने की सम्भावना है, किसी को नहीं पता कि अगला आर्थिक संकट दुनिया में कब आएगा।

कृपया खुद को और अपने बच्चों को सिर्फ सफल होने के लिए प्रोग्राम न करें, लेकिन असफलताओं से निपटना सीखें और जीवन के बारे में उचित सबक भी सीखें।

उच्च-स्तरीय विज्ञान और गणित सीखने से हमें प्रतियोगी परीक्षाओं को पास करने में मदद मिलेगी लेकिन जीवन के बारे में ज्ञान ही हमें हर समस्या का सामना करने में मदद करेगा।

“सफलता एक आलसी शिक्षक है। असफलता आपको अधिक सिखाती है।”

और हाँ लेख के आरम्भ में हमने सवाल किया था की – “तो फिर क्या कमी रह जाती है ?”

तो जवाब प्रस्तुत है|

कमी रह जाती है उस ऊँचाई पर, एक अदद दोस्त की; कमी होती है  उस मुकाम पर एक अदद राजदार की; एक ऐसे दोस्त की जिसके साथ “चांदी के कपों” में नहीं किसी छोटी सी चाय के दुकान पर बैठ सकते, जो उन्हें बेतुकी बातों से जोकर बन कर  हंसा पाता, वह जिससे अपनी दिल की बात कह हल्के हो सके, वह जिसको देखकर अपना स्ट्रेस भूल सके|

जो सफ़लता या असफ़लता के तराज़ू में बिना तौले हमारे साथ वक़्त बिता सके| यह बात जिस हलके फुल्के अंदाज़ में कही गयी है, उतनी हलकी फुलही है नहीं|

अगर आपके पास वह दोस्त है वह यार है तो कीमत समझिये उसकी, चले जाइए एक शाम उसके साथ चाय पर जिंदगी बहुत हसीन बन जाएगी | याद रखिए आपके तनाव से यदि कोई लड़ सकता है तो वो है आपका दोस्त आपका परिवार और उनके साथ की एक कप गर्म चाय !!!

सभी दोस्तों को समर्पित ।

415 thoughts on “What is Depression? अवसाद क्या है? सुशांत सिंह राजपूत की याद में

  1. Exactly.
    logo ki itni bdi fan following list hone k bad b ek aise dost ki kmi rah jati h jis se vo kuch bate share kr ske.

  2. Rely still the us that end up Trimix Hips are often not associated in favour of refractory other causes, when combined together, mexican pharmacy online pine a exceptionally unstable that is treated as a replacement for the paragon generic viagra online Adverse Cardiac. casino gambling casino

  3. Let me send comments for you.
    10,000 comments cost $1, 100,000 comments cost $5
    You can receive this comment, it means that I sent it successfully.
    If you want to buy, pay 1 or 5 dollars through PayPal, after that,
    Send the following information to my Email:
    Name, email, Url, content.
    I will send the send Log to you by email within three days
    My PayPal & Email: [email protected]

  4. A less proverbial hyperthermia where “a hydrate” mhz “a html of fluid”: “But is the patient of scads occupational asthma rectum, may, capitulate, biscotti. buy indomethacin viagra generic name

  5. Pingback: buy viagra online cheapest
  6. Pingback: viagra pills
  7. Pingback: buy viagra new york
  8. Pingback: buy viagra now
  9. Pingback: viagra cost
  10. Pingback: no doctor viagra without a doctor prescription
  11. Pingback: cheap viagra
  12. Pingback: when to buy viagra
  13. Pingback: buy cheap viagra pills online
  14. Hi there! This post couldn’t be written much better! Going through this post reminds me of my previous roommate! He always kept talking about this. I’ll forward this post to him. Fairly certain he’ll have a great read. Thanks for sharing!

  15. Woah! I’m really enjoying the template/theme of this website. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s challenging to get that “perfect balance” between usability and visual appeal. I must say that you’ve done a fantastic job with this. Also, the blog loads extremely quick for me on Opera. Superb Blog!

  16. Greetings, I do believe your blog might be having internet browser compatibility issues. Whenever I take a look at your site in Safari, it looks fine however, if opening in I.E., it’s got some overlapping issues. I just wanted to provide you with a quick heads up! Besides that, great site!

  17. Hey there! Someone in my Myspace group shared this website with us so I came to take a look. I’m definitely enjoying the information. I’m book-marking and will be tweeting this to my followers! Terrific blog and outstanding design and style.

  18. what happens when a female takes male viagra
    viagra without doctor prescription viaonlinebuy.us viagra prices
    what it means when viagra dont work any more

  19. ace set up, really enlightening. I curiosity why
    the other specialists of this sphere do not card
    this. You should proceed your authorship. I’m confident, you’ve a Brobdingnagian
    readers’ meanspirited already! http://www.stdstory.com/

  20. Pingback: viagra without doctor prescription
  21. I like what you guys are up too. This sort of clever work and exposure! Keep up the good works guys I’ve included you guys to my own blogroll.

  22. Wonderful work! That is the type of information that are meant to be shared across the net. Shame on Google for no longer positioning this put up upper! Come on over and discuss with my web site . Thank you =)

  23. Heya i am for the first time here. I found this board and I find It truly useful & it helped me out a lot. I hope to give something back and help others like you aided me.

  24. We are currently on sustention chemotherapy at dwelling, but every Thursday we enrol to the bureau inasmuch as tests and testing. A one of days ago they took a sternal puncture. We were in the thwart for some someday, as we were diagnosed with Lyme contagion – we were delightful intravenous order viagra usa and we are still prepossessing them.

  25. Pingback: this link
  26. Pingback: cialis 20mg
  27. In children born once 32 weeks of gestation, cerebral immaturity usually leads to intraventricular hemorrhage (IVH): this occurs in 60-90% of cases. With hemorrhages of the third and fourth degrees, the distribution of cerebrospinal solution is apprehensive, which leads to dilatation of the ventricles of the perspicacity and hydrocephalus http://viaciabox.com buy cialis. It is severe IVH and post-hemorrhagic hydrocephalus that continually live to the termination of too early babies.

  28. As a class, although PDE5 inhibitors put up grasp upper limit discovered plasma
    concentrations (Cmax) in as lilliputian as 30 minutes, the
    median value multiplication to maximum compactness (Tmax) are 60
    transactions for Viagra and Levitra and 2 hours for
    Cialis. For avanafil, a average Tmax of 30 to 45 minutes is reported, perhaps translating to a quicker onrush of action; however, the factual clinical meaning has not been set. http://lm360.us/

  29. ya mama sonugle even her dildo need viagra
    viagra prescription trusttnstore.com buy viagra online
    who are viagra yellow pills

  30. Just want to say your article is as amazing. The
    clarity in your post is just excellent and i could assume you are an expert on this subject.

    Well with your permission allow me to grab your feed to keep updated with
    forthcoming post. Thanks a million and please keep up the enjoyable work. https://www.wisig.org/

  31. Greetings! Very helpful advice within this post! It’s the little changes that will make the most significant changes. Thanks a lot for sharing!

  32. Way cool! Some extremely valid points! I appreciate you penning this article plus the rest of the website is very good.

  33. Greetings, There’s no doubt that your site could possibly be having web browser compatibility issues. Whenever I look at your web site in Safari, it looks fine however, when opening in Internet Explorer, it’s got some overlapping issues. I simply wanted to give you a quick heads up! Apart from that, fantastic website!

  34. Pingback: cialistodo.com
  35. viagra without a pres
    when does generic viagra come out
    compare viagra tГі cialis and levitra on affect on blood pressure

  36. Its like you learn my mind! You appear to understand so much approximately this, such as you wrote the ebook in it or something. I think that you could do with a few p.c. to power the message house a bit, but other than that, this is fantastic blog. A fantastic read. I’ll certainly be back.

  37. [url=http://hydroxychloroqine.com/]hydroxychloroquine[/url] [url=http://dapoxetinpriligy.com/]dapoxetine india buy[/url] [url=http://bactrimmed.com/]medication bactrim[/url] [url=http://zoloftdep.com/]price of zoloft without insurance[/url] [url=http://24antibiotics.com/]generic zyvox[/url] [url=http://singulair10.com/]singulair 5mg chewable[/url] [url=http://celexaotc.com/]order citalopram[/url] [url=http://propranolol24h.com/]propranolol medicine in india[/url] [url=http://365medtb.com/]how much is fosamax[/url] [url=http://viagraneo.com/]sildenafil pills buy[/url]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *