आईएएस (IAS) भारत की सिविल सेवा का सबसे प्रतिष्ठित पद है, इस पद की गरिमा और शक्ति के आधार पर ही इसके चयन की परीक्षा भी उसी के अनुरूप तय की गयी है।

जिससे इस पद पर केवल योग्य व्यक्ति ही पहुंच सके | इस पद पर बहुत से अभ्यर्थी चयनित होना चाहते है। लेकिन पद तक केवल कर्मठ और अनुशासित व्यक्ति ही पहुंच पाते है।

IAS ऑफिसर बनने के लिए बहुत मेहनत और लगन की आवश्यकता  होती हैं। आप मात्र डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर या डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट तक ही आईएएस को न देखें।

भारत जैसे देश में सभी विभाग के प्रशासनिक मुखिया व सचिव ज्यादातर वरिष्ट आईएएस ही होते है| कैबिनेट सचिव, भारत सरकार का सचिव।

किसी राज्य का सचिव या किसी भी केंद्रीय मंत्रालय का सचिव आईएएस ही होते है| भारतीय प्रशासनिक सेवा में,सबसे बड़ी रैंक आईएएस (IAS) को ही दी गयी है।

इसीलिए देश के किसी भी उच्च पद पर बैठने वाला अधिकारी निश्चित रूप से आईएएस को दिया जाता है,भारतीय सिविल सेवा  में सेलेक्ट होना एक गर्व और गौरव की बात है।

यह आपको नौकरी नहीं अपितु सही महीने में देश की सेवा करने का मौका देता है,सिविल सेवा के जरिये 24 सर्विसो के लिए परीक्षा ली जाती है।

जिसमे आईएफएस (IFS), आईपीएस (IPS), आईआरएस (IRS) जैसे ग्रेड ‘A’ पद शामिल है| यह एक स्थायी कार्यपालिका का सदस्य है ।

जिसका कोई इलेक्शन नहीं अपितु सिलेक्शन होता है| इसे ही नौकरशाही या Bureaucracy कहते है। देश में विकास और संतुलन के लिए शासन और प्रशासन साथ मिलकर काम करते है।

ऐसे ही इंटरेस्ट है और मजेदार टेक्नोलॉजी से जुड़े हुए टिप्स एंड ट्रिक्स के लिए हमारे वेबसाइट namastebharat.in पर विजिट करते रहे।