बेबाक राय

प्रज्वलंत

दर्शन

सरकार एवं सरोकार

बच्चों पर फिल्मो और साहित्य का अभाव|

बच्चों पर फिल्मो और साहित्य का अभाव|

This topic contains 0 replies, has 1 voice, and was last updated by Profile photo of Namaste Bharat Namaste Bharat 1 year, 10 months ago.

Viewing 1 post (of 1 total)
  • Author
    Posts
  • #1749
    Profile photo of Namaste Bharat
    Namaste Bharat
    Keymaster

    बचपन का बाज़ार मूल्य तो बढ़ता हुआ दीखता है परन्तु समाज में हम उनके प्रति संवेदनशीलता खोते जा रहें है | वर्तमान में बच्चो पर फिल्मों का अभाव है , साहित्य की खोती परंपरा का संकट तो पूरे समाज पर है, बचपन भी इससे अछूता नहीं है| इस परिस्थिति से कैसे उबरेंगे हम?

Viewing 1 post (of 1 total)

You must be logged in to reply to this topic.