बेबाक राय

प्रज्वलंत

दर्शन

सरकार एवं सरोकार

जानिए 500 और 1000 के नोट बंद करने वाली योजना के असली नायक को-अनिल बोकिल

Browse By

मोदी ने अनिल बोकिल 9 मिनट का समय दिया और राहुल गाँधी ने इन्हें सिर्फ 15 सेकंड्स से ज्यादा का समय नहीं दिया . अनिल बोकिल ने पीएम मोदी को सुझाव देकर, भारत की अर्थक्रांति को बदल कर रख दिया
आइये मिलाते है उस शख्स का नाम है अनिल बोकिल, हालाँकि, पीएम मोदी ने इनका प्रस्ताव सुनने के लिए सिर्फ 9 मिनट का ही समय दिया गया था, लेकिन उन्हें इनका प्रस्ताव इतना अच्छा लगा कि, वह इसको करीब 2 घंटों तक सुनते ही रहे।
अनिल बोकिल पेशे से पुणे (महाराष्ट्र) के एक इंजीनियर है और यह अर्थक्रांति संस्थान के एक बहुत ही मुख्य सदस्य है। आपको बता दे कि, अनिल बोकिल वर्ष 2014 में चुनाव से पहले ही नरेंद्र मोदी से मिल चुके थे, और उस समय ही उन्हें मुलाकात के लिए सिर्फ 9 मिनट का ही समय दिया गया था। लेकिन जब भ्रष्टाचार और नकली रुपयों को रोकने के लिए उन्होंने अपना प्रस्ताव सुनाने लगे तो, नरेंद्र मोदी ने उनका यह प्रस्ताव 2 घंटों तक सुना था।
आपको एक अहम बात और हैरानी वाली बात भी बता देते है साथ में, अनिल बोकिल ने कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी से भी मुलाकात की थी, लेकिन मीडिया रिपोर्ट के अनुसार राहुल गाँधी ने अनिल बोकिल को सिर्फ 15 सेकंड्स से ज्यादा का समय नहीं दिया था।
आइये जानते है क्या है अर्थक्रांति संस्थान
अर्थक्रांति संस्थान एक चार्टर्ड एकाउंटेंट और इंजीनियर्स का एक ग्रुप है जो इकॉनोमिक एडवैजरी बॉडी है। अर्थक्रांति ने ही पीएम मोदी को काला धन, महंगाई, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी और आतंकवादियों को फंडिंग जैसी समस्याओं को रोकने के लिए यह प्रस्ताव दिया था। हालाँकि, ये फैसला लेना बहुत ही मुश्किल और चुनौतियों से भरा हुआ था लेकिन पीएम मोदी ने सब कुछ सम्भालते हुये इस प्रस्ताव को पास कर दिया।

1,057 total views, 1 views today

भारत को बेहतर समझने और हमारी परम्पराओं को देश दुनिया तक पहचाने के हमारे इस प्रयास को प्रोत्साहित करें और हमारा छोटा सा सहयोग करें

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगा तो अपने मित्रों के साथ सोशल मीडिया और WhatsApp पर शेयर कर हमारी सहायता करें

If you found the post useful please share it with your friends on social media and whatsapp

%d bloggers like this: