Beti Bachao Beti Padhao Yojana बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की जानकारी

[ad_1]

Beti Bachao Beti Padhao Yojana: बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना 22 जनवरी 2015 को पानीपत, हरियाणा में प्रधान मंत्री द्वारा शुरू की गई थी। देश की बेटियों के उत्थान और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत की थी। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना बहुत मदद करती है। और देश में बेटियों के प्रति लोगों का नजरिया भी बदल गया है। और ‘ Beti Bachao Beti Padhao‘ जिसका अर्थ है “बालिकाओं को बचाओ और उन्हें शिक्षित करो। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना भारत सरकार द्वारा बालिकाओं के लिए जागरूकता पैदा करने और महिलाओं के कल्याण में सुधार के लिए शुरू की गई थी।

Beti Bachao Beti Padhao Yojana
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के बारे में पूरी जानकारी

जिससे जीवन चक्र में स्त्री और पुरुष दोनों की समान भागीदारी होती है। बेटियों की घटती संख्या देश के लिए चिंता का विषय है। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना का संचालन महिला एवं स्वास्थ्य मंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय, बाल विकास मंत्रालय और मानव संसाधन मंत्रालय की भागीदारी से किया जाएगा। और देश की बेटियों के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए सरकार द्वारा समय-समय पर कई योजनाएं शुरू की जाती हैं। पूरा हो गया है।

और Beti Bachao Beti Padhao Yojana के तहत केंद्र सरकार द्वारा 2 लाख की नकद सहायता का दावा किया जा रहा है। संदेश में कहा गया है कि राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर सरकार की ओर से बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के तहत 2 लाख की नकद सहायता दी जा रही है. जिसमें सभी राज्य क्षेत्रों के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय को शामिल किया गया है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का उद्देश्य

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य देश में महिलाओं की स्थिति में सुधार करना है। और बालिका लिंगानुपात में गिरावट को रोकें और महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा दें। Beti Bachao Beti Padhao Yojana एक अभियान है जो महिला और बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक संयुक्त सरकारी योजना है। जिसका उद्देश्य भारत में लड़कियों के लिए जागरूकता पैदा करना और कल्याणकारी सेवाओं में सुधार करना है।

Beti Bachao Beti Padhao Yojana के माध्यम से लड़कियों की सुरक्षा, शिक्षा, स्वतंत्रता सुनिश्चित करना। और समाज में लड़कियों के प्रति फैली संकीर्ण मानसिकता में बदलाव लाना चाहिए। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत भ्रूण हत्या की दर में सुधार और कमी करना। और बेटी बचाओ बेटी पढाओ की मदद से समाज में लड़कियों की भागीदारी सुनिश्चित करने का प्रयास किया जा रहा है। लड़कियों को जागरूक व जागरूक करना। बेटी बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत बेटे और बेटी के समान विचार को बढ़ावा देना। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत लड़कियों को अपनी आत्मरक्षा, शिक्षा, ताकत, भागीदारी और अपने भविष्य के प्रति जागरूकता सुनिश्चित करनी चाहिए।

Beti Bachao Beti Padhao Yojana का लाभ

  • बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना से लड़के और लड़कियों के लिंगानुपात में सुधार होगा।
  • आपको आपके द्वारा जमा की गई राशि और सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना से लड़कियों की शिक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ेगी।
  • और इस योजना के माध्यम से देश में लड़कियों के भ्रूण हत्या को रोका जा सकता है।
  • योजना का लाभ पाने के लिए आप अपनी बेटी का बैंक खाता जन्म से लेकर 10 साल तक खुलवा सकते हैं.
  • महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ अत्याचार और अपराध में कमी आएगी।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना लड़कियों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करेगी।
  • लड़कियों की हत्या कोई नहीं करेगा.
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना से लड़कियों की आत्मनिर्भरता बढ़ेगी।
  • जिससे हमारे देश की लड़कियों को आर्थिक मदद मिलती है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का लक्ष्य

  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत जन्म के समय बालिका लिंगानुपात में सुधार महत्वपूर्ण जिलों में एक वर्ष में 2 अंक का सुधार।
  • जिला स्तर के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की क्षमताओं को और मजबूत करने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किए गए हैं।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य बालिकाओं के लिए एक सुरक्षात्मक वातावरण को बढ़ावा देना और उसकी समीक्षा करना है।
  • बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान के तहत चयनित जिलों के प्रत्येक विद्यालय में बालिकाओं के लिए शौचालय की व्यवस्था करना।
  • पंचायती शहरी स्थानीय निकायों को युवा समूहों के साथ भागीदारी में सामाजिक परिवर्तन के लिए प्रशिक्षित करना और समय-समय पर लोगों को इस सरकारी योजना में शामिल करना।
  • 1961 में बालिकाओं के लिंगानुपात में लगातार गिरावट आ रही है।
  • जहां 1991 में 0 से 6 वर्ष के आयु वर्ग में प्रति 1000 लड़कों पर 945 लड़कियां थीं।
  • वहीं, 2011 में यह संख्या गिरकर 918 हो गई, जो धीरे-धीरे गंभीर चिंता का विषय बन गई।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का सबसे बड़ा उद्देश्य है। लोगों और महिलाओं की सुरक्षा और सशक्तिकरण की मानसिकता में बदलाव लाना।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लिए पात्रता

  • बैंक में सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाना अनिवार्य है, राशि उसके द्वारा ही जमा की जाएगी।
  • और बेटी भारत की स्थायी निवासी होनी चाहिए।
  • आवेदन करने के लिए बेटी की उम्र 10 साल होनी चाहिए।

Beti Bachao Beti Padhao Yojana के लिए दस्तावेज

  • जन्म प्रमाण पत्र।
  • माता-पिता का पहचान पत्र।
  • पासपोर्ट साइज फोटो।
  • मोबाइल नंबर |               
  • आधार कार्ड |
  • निवास प्रमाण पत्र |

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लिए आवेदन की प्रकिया

  • कोई भी इच्छुक लाभार्थी जो बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत आवेदन करना चाहता है।
  • नीचे दिए गए चरणों का पालन करें और योजना का लाभ उठाएं।
  • सबसे पहले आपको महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की मुख्य साइट पर जाना होगा।
  • फिर Official Website पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • उसके बाद होम पेज पर आपको महिला अधिकारिता योजना का विकल्प दिखाई देगा। आपको उस ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • आपके सामने अगला पेज खुलेगा। इस पेज पर आपको बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद आपके सामने कंप्यूटर स्क्रीन पर एक नया पेज खुलेगा।
  • इसके बाद जानकारी को विस्तार से पढ़ने के बाद पूरी जानकारी भरें।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लिए ऑफलाइन आवेदन की प्रकिया

  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के ऑफलाइन आवेदन के लिए सबसे पहले आपको अपने सभी दस्तावेज अपने नजदीकी बैंक या डाकघर में ले जाने होंगे।
  • उसके बाद आपको इस योजना के तहत खाता खोलने के लिए आवेदन पत्र लेना होगा।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का ऑफलाइन आवेदन फॉर्म लेने के बाद आपको सारी जानकारी भरनी होगी।
  • अपनी सारी जानकारी भरने के बाद आपको आवेदन पत्र के साथ सभी दस्तावेज संलग्न कर बैंक या डाकघर में जमा करना होगा।
  • उसके बाद आपकी बेटी बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के लिए पात्र होगी।
  • इस तरह आपकी बेटी बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के लिए पात्र होगी।

[ad_2]

यह भी पढ़ें –
[catlist]

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply