Indian Railway : अगर चलती Train में किसी का तबियत खराब हो जाए तो क्या होगा? जानें- कैसे मिलता है इलाज?

monika
3 Min Read

[ad_1]

How is Treatment Done in A Moving Train? लम्बे और आरामदायक सफर के लिए हमेशा भारतीय लोगों की पसंद रेलवे (Railway) ही होता है। लेकिन लंबे सफर पर जाते वक्त लोगों को कई तरह की परेशानी आ जाती है जिनमें से एक तबीयत बिगड़ना भी है। अगर आप किसी लम्बे सफर पर जा रहे हो और अचानक से आपकी तबीयत बिगड़ जाये तो आप क्या करेंगे?

पिछले कुछ समय से यात्रियों की सफर के दौरान हालत खराब हो जाने और उन्हें समय पर इलाज न मिलने नहीं कारण कई बुरी घटनाएं सामने आई है। आज हम आपको बताएंगे कि अगर आपके साथ सफर के दौरान आपकी तबीयत खराब होती है तो आपको क्या करना चाहिए?

ईलाज ना मिलने पर हो जाती है मौत

रेलवे (Railway) में सफर करने वालों के लिए ये खबर काफी सही साबित हो जाती है। आज के समय में बदलते मौसम के कारण यात्रियों की तबीयत खराब होने लगी है लेकिन अगर समय पर आपको ईलाज ना मिले तो आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

अगर आपको समय पर सही ईलाज और दवाई ना मिले तो आपके साथ बड़ी दुर्घटना हो सकती है। ऐसे समय में व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। ऐसी परिस्थिति में आप कुछ कदम उठा सकते है आइये जानते है इनके बारे में….

ट्रेन में तबीयत खराब हो तो करें ये काम

अगर आपको रेलवे (Railway) में ऐसी किसी असुविधा का सामना करना पड़ जाता है तो घबराने की कोई जरूरत नहीं है आपको ऐसे समय में रेलवे (Railway) के हेल्पलाइन नंबर 138 पर कॉल कर सकते है। इसके अलावा आप ये कदम भी उठा सकते है।

  • अगर आप 138 नंबर पर कॉल नहीं करते है तो 9794834923 पर कॉल कर सकते है।
  • यदि ट्रेन में TTE या फिर कंडक्टर है तो आप उन्हें भी इस बारे में सूचना दे सकते हैं।
  • इसके साथ ही अब सभी ट्रेनों में डॉक्टर की सुविधा मिल जाती है और इसकी सहायता लेने के लिए आपको कुछ जरूरी स्टेप्स फॉलो करने होंगे। इसके बाद ही आपको डॉक्टर की सुविधा मिल जाएगी।
  • अब आधुनिक सुविधाओं के तहत ट्रेन के हर डिब्बे में डॉक्टरों की व्यवस्था रखी जाएगी जिसे जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • इसके अलावा आप ट्विटर पर IRCTC को टैग करके अपना PNR नंबर दर्ज करें इसके अलावा अन्य जानकारी भी देनी होगी।
  • यात्रियों के सहायता के लिए 162 ट्रेनों में नए मेडिकल बॉक्स भी लगे हैं, जिनमें 58 तरह की दवाएं और ज़रूरी चीज़ें होंगी। इससे यात्रियों को सही समय पर उचित इलाज मिल सकता है।

[ad_2]

Leave a comment