Browse By

बापू के स्वच्छता संदेश का पर्याय हैं झाड़ू बाबा

13 साल से भोर में उठकर तीन घण्टे शहर की गंदगी साफ करते हैं महेश शुक्ला उर्फ झाड़ू बाबा

गोरखपुर, 2 अक्टूबर। आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती है। पूरे देश में प्यार व सम्मान से बापू के नाम से भी प्रतिष्ठित गांधी जी ने देश को आजादी दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई तो साथ ही जीवन मे स्वच्छता के महत्व से भी जन-जन को जागरुक किया। गोरखपुर में गत 13 सालों से बापू के स्वच्छता संदेश को अपने जीवन में उतार लिया है झाड़ू बाबा ने। वैसे नाम तो उनका महेश शुक्ला है लेकिन नियमित तीन घण्टे झाड़ू लेकर शहर की गलियों, सड़कों और सार्वजनिक स्थानों की सफाई उनकी दिनचर्या का हिस्सा ऐसे बनी कि अब उनकी पहचान ही झाड़ू बाबा के नाम से हो गई है। अब उनका सपना अपने शहर को देश के सबसे स्वच्छ शहरों की फेहरिस्त में शुमार कराने का है।

महानगर के शास्त्री नगर कॉलोनी में रहने वाले महेश शुक्ला उर्फ झाड़ू बाबा ने 13 साल पहले अपने मोहल्ले की सड़कों व गलियों को साफ करने का बीड़ा उठाया था। पेशे से कम्प्यूटर क्षेत्र के व्यवसायी महेश शुक्ला को सफाई अभियान की यह प्रेरणा ट्रेन में यात्रा के दौरान महात्मा गांधी की एक किताब पढ़ते वक्त मिली। किताब में गांधी जी के स्वच्छता पर लिखे गए वाक्यों ने उनके दिल ओ दिमाग को झकझोर कर रख दिया। यात्रा से लौटे तो अगले ही दिन भोर में लोगों की टिप्पणियों की परवाह किए बिना झाड़ू लेकर निकल पड़े। एक दशक से अधिक समय तक वह अपने मोहल्ले में करीब दो किलोमीटर तक सफाई करते रहे। इसके बाद उन्होंने इस अभियान में पहले व्ही पार्क और फिर रामगढ़ताल के नया सवेरा क्षेत्र को भी शामिल कर लिया। 13 साल से भोर में उठने के बाद तीन घण्टे उनका झाड़ू अनवरत गंदगी साफ कर रहा है। पहले जहां लोग उनके इस काम का मज़ाक उड़ाते थे, वहीं अब कई लोग उनसे प्रेरित होकर सफाई में हाथ बंटा रहे हैं। यह स्थिति तब और सुखद लगती है जब रामगढ़ताल क्षेत्र में उनके साथ कई पुलिसकर्मियों के हाथ में झाड़ू दिखती है। यानी लोग साथ आ रहे हैं और कारवां बन रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *