अब बीमार पेंशनर्स का लाइफ सर्टिफिकेट घर से लेंगे बैंक, जानिए- क्या है नया आदेश…..

[ad_1]

Life Certificate : सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए बीमार चल रहे पेंशनर्स के लिए बड़ा ऐलान किया है जो उनको काफी आराम देगा। आपको बता दे कि केंद्र सरकार ने सभी लोन देने वाले बैंकों को आदेश दिया है कि वह बीमार चल रहे पेंशनर्स के घर जाकर अस्पताल में भर्ती पेंशनर्स के पास जाकर उनका जीवन बीमा सर्टिफिकेट (Life Certificate) प्राप्त करें।

इसके साथ ही पेंशन और पेंशनर्स कल्याण विभाग ने एक आदेश जारी किया है जिसमें बैंकों को 80 साल से ऊपर यानी सीनियर सिटीजन को डिजिटल रूप से फेस ऑथेंटिकेशन के जरिए लाइफ सर्टिफिकेट (Life Certificate) जमा करने का आदेश दिया है।

पेंशनर्स को देना होता है लाइफ सर्टिफिकेट

आप लोगों को इस बात की जानकारी तो होगी कि जो लोग पेंशम ले रहे हैं उन्हें हर साल अपना जीवन प्रमाण पत्र (Life Certificate) जमा करना होता है और बैंकों को बताना होता है कि वह अब तक जीवित है। केंद्र सरकार के तहत लगभग 69.76 लाख पेंशनर्स आते हैं।

25 सितंबर को सरकार द्वारा जारी किए गए आदेश में बताया गया है कि सीनियर सिटीजंस फेस ऑथेंटिकेशन के जरिए अपना जीवन प्रमाण पत्र (Life Certificate) जमा कर सकते हैं। अब घर पर बैठे 80 साल से ऊपर के लोग अपने घर से स्मार्टफोन के जरिए फेस ऑथेंटिकेशन कर या फिर बैंक शाखा में डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र जमा करना संभव होगा।

बैंकों को दिए यह निर्देश

इसके अलावा सरकार ने बैंकों का आदेश दिया है कि वह सोशल मीडिया के जरिए लोगों को जागरूक करें और फेस ऑथेंटिकेशन के जरिए जीवन प्रमाण पत्र जमा करने के लिए कहे। इसके अलावा बैंक डोर स्टेप बैंकिंग अधिकारियों की नियुक्ति कर भी लोगों से जीवन प्रमाण पत्र (Life Certificate) जमा कर सकता है। इसके अलावा बैंकों की शाखा या ATM पर भी पोस्टर लगाकर लोगों को जागरुक कर सकता है।

इसके अलावा व्हाट्सएप, फेसबुक और अन्य मैसेज सर्विस के जरिए भी लोगों को यह मैसेज दे सकता है ताकि वह एंड्राइड स्मार्टफोन के जरिए फेस ऑथेंटिकेशन करें अपना जीवन प्रमाण पत्र (Life Certificate) जमा कर सके। इसके अलावा वह ईमेल के जरिए भी लोगों को जागरूक करें। आपको बता दे कि हर साल 1 अक्टूबर को 80 साल या उससे ऊपर के वरिष्ठ नागरिकों को अपना जीवन प्रमाण पत्र जमा करना होता है ताकि वह पेंशन योजना का लाभ ले सके।

[ad_2]

यह भी पढ़ें –
[catlist]

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply